Mehnat

सहारा ढूंढने निकला था,
एक छत ढूंढ़कर आया हूँ
निशान ढूंढने निकला था,
मैं ख़त ढूंढकर आया हूँ
मैं आदत ढूंढने निकला था,
एक लत ढूंढकर आया हूँ ,
आवारगी ढूंढने निकला था,
मैं मोहब्बत ढूंढकर आया हूँ ,
मैं दूरियाँ ढूंढने निकला था,
मैं कुरबत ढूंढकर आया हूँ ,
बैचैन होके निकला था,
मैं फुर्सत ढूंढकर आया हूँ ,
एहसान ढूंढने निकला था,
मैं रेहमत ढूंढकर आया हूँ

मैं किस्मत ढूंढने निकला था,
मैं मेहनत ढूंढकर आया हूँ ।।

पारुल सिंह

This poem is about: 
My community

Comments

Need to talk?

If you ever need help or support, we trust CrisisTextline.org for people dealing with depression. Text HOME to 741741