पर आप से , नहीं हो पाये गा

Location

India

ना जाने मैं सही हूं , या नहीं 

पर आज कहूंगा जरूर 

 

बस कुछ पल , आपको घर पर रहना है

पर आप से  , नहीं हो पाये गा 

बस कुछ पल , आपको अपने परिवार के साथ कुछ पल बिताना है 

पर आप से  , नहीं हो पाये गा 

बस कुछ पल , सुबह को देखना है 

पर आप से  , नहीं हो पाये गा 

बस कुछ पल , अपने से बात करनी है 

पर आप से  , नहीं हो पाये गा 

बस कुछ पल , किसी भले को याद करना है 

पर आप से  , नहीं हो पाये गा 

बस कुछ पल, माँ के साथ बिताने है 

पर आप से  , नहीं हो पाये गा 

बस कुछ पल , पापा के साथ जिंदगी जीना सीखना है 

पर आप से  , नहीं हो पाये गा 

बस कुछ पल , दूसरे की हँसी का कारण बनना है 

पर आप से  , नहीं हो पाये गा 

बस कुछ पल , किसी के आँसू पोंछना है 

पर आप से  , नहीं हो पाये गा 

बस कुछ पल , कुछ नया सीखना है 

पर आप से  , नहीं हो पाये गा 

बस कुछ पल अपने रियल हीरो को याद करना है 

पर आप से  , नहीं हो पाये गा 

बस कुछ पल , बाद इंडिया के जीत का कारण बनना है 

माफ करना पर  आप से  , नहीं हो पाये गा

This poem is about: 
Our world
Guide that inspired this poem: 

Comments

Need to talk?

If you ever need help or support, we trust CrisisTextline.org for people dealing with depression. Text HOME to 741741